Narendra Modi Biography In Hindi - नरेंद्र मोदी की जीवनी





परिचय 



नरेंद्र मोदी का पूरा नाम - नरेंद्र दामोदर दास मोदी
                     जन्म  -      17 सितम्बर 1950
           जन्म स्थान  -     वडनगर, जिला - मेहसाना (गुजरात )
 पिता का नाम -  दामोदर   दास मूलचंद मोदी    
                      माता का नाम   - हीराबेन मोदी
              विवाह  -     जसोदा बेन के साथ      






               


मोदी जी का निजी जीवन 

नरेंद्र मोदी का पूरा नाम नरेंद्र दास मोदी है ।  नरेंद्र मोदी जी का जन्म 17  सितम्बर 1950  को गुजरात के मेहसाणा जिले के  वडनगर में हुआ।  मोदी के  पिता का नाम दामोदर दास मूलचंद मोदी और माँ का नाम हीराबेन था.

  इनके पिता दामोदर दास मूलचंद मोदी और माँ  हीराबेन  के 6 बच्चों में ये तीसरे नंबर पर थे। इनके घर की आर्थिक हालात  अत्यंत ख़राब थी। इनका   परिवार बहुत ही गरीब  था और एक कच्चे के मकान में पूरा परिवार रहता था  ।
घर में दो वक्त का खाना तक ठीक से नसीब नहीं होता था.   इनकी माँ दूसरों के घरों में जाकर बर्तन साफ़ करती थी और
पिता की एक छोटी सी चाय की दुकान थी, घर की आर्थिक  दशा देखकर इन्होने अपने  पिता का हाथ संभाला और वडनगर रेलवे स्टेशन पर अपने पिता के साथ चाय बेचना में मदद करते थे।

कुछ समय के बाद इन्होने अपने भाइयों के साथ बस स्टैंड के पास खुद का टी स्टॉल  चलाना  शुरू किया।

चाय की स्टॉल चलाने  के साथ साथ नरेंद्र मोदी को पढ़ने का भी काफी शौक था।  वे अपने बचे हुए  समय में स्कुल के  पुस्तकालय में घंटो  पढ़ा करते थे. उनके सहपाठी और अध्यापक   बताते थे मोदी    शुरू से ही कुशल वक्ता थे।

मोदी जी की बेहद रूचि वाद विवाद  में  और नाटक प्रतियोगताओं में हिस्सा लेने की  थी , लेकिन  इसके आलावा भी उनकी रूचि राजनीतिक विषयों के साथ साथ नयी नयी परियोजनाएं  आरम्भ  कराने की थी। वे  हिंदुं और मुसलमानो के त्योहारों में बराबर का उत्साह  मनाते  थे.

जब मोदीजी  8 साल की अलप आयु के  थे , तभी उन्होंने RSS के स्थानीय  शाखाओं में प्रशिक्षण  लेना  शुरू किया और वहां उनकी भेंट  लक्षमण राव इनामदार से हुई जो वे वकील साहब के नाम से जाने जाते थे , उन्होंने मोदी को RSS का   बालस्वयमसेवक भी   नियुक्त्त किया और वे मोदी के राज्य सलाहकार बने जब प्रशिक्षण  मोदी ले रहे थे तब वे वसंत   गजेंद्रगडकर और नाथालाल  जघदा , भारतीय जनसंघ के नेताओं से मिले  जो बाद में गुजरात में 1980 में बीजेपी के   सदस्य बने।

जब मोदी जी की आयु 13 वर्ष की थी तभी उनकी शादी जसोदा बेन चमन लाल से करा दी गयी , किन्तु कुछ पारिवारिक समस्यों के कारण 1967 में  17  वर्ष की  आयु में वे घर छोडकर चले गए उसके बाद उन्होंने  २ उत्तरी और उत्तर पूर्व की यात्रा करने में व्यतीत किये।

इस दौरान उन्होंने पूर्वोत्तर भारत और उत्तराखंड  , बंगाल में रामकृष्ण आश्रम  जैसे  धार्मिक जगहों का  भ्रमण किया।इन्ही दिनों से  उन्होंने जीवन को गहराई से जाना।  फिर अंत में वे अल्मोड़ा के रामकृष्ण आश्रम पहुंचे जहाँ उन्हें  उच्च सिक्छण ना होने की वजह से उन्हें फिर से  निकला गया और फिर वे  दिल्ली और राजस्थान होते हुए 1968- 69 में वापिस गुजरात आये।

1969 -70  के आस पास  अहमदाबाद छोड़ने से पहले मोदी  एक दो बार वडनगर देखने गए थे तब बाद में वे अपने अंकल के साथ रहने लगे. जो की   गुजरात के रोड ट्रांस पोर्ट कारपोरेशन में काम किया करते थे. अहमदाबाद में मोदी ने इनामदार को फिर से अपना परिचय दिया जो हेड गेवार भवन में मौजूद थे।  

1971 इंडो पाक युद्ध के बाद मोदी ने अपने अंकल के लिए काम करना बंद कर दिया और वे RSS के एक फुल  टाइम  प्रचारक बन गए। 1978  में ही मोदी RSS के संभाग प्रचारक बने और दिल्ली विश्व विद्यालय से राजनीति शास्त्र की डिग्री हासिल  की. और उन्हें पांच वर्ष के बाद राजनीति शास्त्र में गुजरात विश्व विद्यालय से मास्टर और आर्ट्स की डिग्री भी मिली.





राजनीतिक  जीवन 






नरेंद्र मोदी जी ने अपना पूरा जीवन  1971 में RSS join किया उसके  बाद उन्होंने राजनीति जीवन को  समर्पित किया।
भारत में जब 1975  में राजनितिक झगडे चल रहे थे. तब उस समय प्रधानमंत्री इंदिरा गाँधी ने देश में आपातकाल की घोषणा की  और RSS संस्था को बंद करने को कहा लेकिन मोदी जी ने गुप्त तरीके से लोगों की सेवा किये. और आरएसएस का प्रचार करते रहे ।   मोदी के  इस काम को देखकर  उन्होंने मोदी को भाजपा में शामिल किया।

गुजरात में जब 2001 में  भयंकर भूकंप आया तो भूकंप की वजह से पूरा गुजरात को बहुत नुक्सान झेलना पड़ा था.  उस समय की सरकार के राहत कार्य से खुश नहीं हुए तब  भाजपा वालों ने मोदीजी को गुजरात का मुख्यमंत्री बनाया।

मोदी ने उस समय भूकंप से  गुजरात को उबरने में जी जान में मेहनत की और वे सफल भी हुए  और वे गुजरात में बेहद लोकप्रिय हुए जिससे वहां की जनता खुश होकर मोदी जी को लगातार 4 बार मुख़्यमंत्री चुनकर  भारत के  सबसे बेहतर मुख्यमंत्रियों में शामिल किया।

 मुख्य मंत्री के रूप में नरेंद्र मोदी ने  गुजरात में जो विकाश किये जो निम्नलिखित   है. - बेटी बचाओ, कृषि महोत्सव ,  मातृ वंदना , चिरंजीवी योजना , कन्या कलवानी योजना, पंचामरीत योजना, कर्मयोगी अभियान।


इसके पश्चात 2014 के लोकसभा के चुनाव में पृधान मंत्री उम्मीदवार के रूप में भाजपा ने मोदी को उतरा और पूरे   भारत में मोदी की नाम की इतनी जय जयकर हो रही थी की काफी लोगों ने पहले ही मोदी को प्रधानमंत्री मान लिए थे .
 भारतीय जनता पार्टी ने 2014 में लोकसभा चुनाव  लड़े जिससे 282 सीटें जीतकर सफलता प्राप्त की. भारत के राष्ट्रपति प्रणब मुख़र्जी ने  26   मई 2014 को   भारत के प्रधानमंत्री को शपथ दिलायी। अब मोदी भारत के 15 वे प्रधानमंत्री हुए।
 प्रधानमंत्री मोदी जी ने कुछ प्रमुख योजनाएं  है जो इस प्रकार है जैसे ; - स्वच्छ भारत अभियान , धन योजना , डिजिटल योजना और  मेक इन इंडिया।