ब्रह्म कुमारी शिवानी की जीवनी


परिचय 



 शिवानी वर्मा जिनको हम लोग ब्रह्म कुमारी शिवानी के नाम से जानते है। वह एक आध्यात्मिक टीचर और पररक वक्ता है.  साल 1995 से ब्रह्म कुमारी शिवानी विश्व आध्यात्मिक विश्वविद्यालय के सदस्य रही है। 

जीवनी 



ब्रह्म कुमारी शिवानी सार्वजनिक सेमिनारों में और टीवी के माध्यम से प्रेरक पाठ्यक्रम संचालित करती है।  सन  2008 के बाद उसने भारत में और भारतीय दर्शाकों के मध्य टीवी शृंखला " Awakening  With Brahm Kumari " में अग्रणी भूमिका निभाई है। वह इस समय "संस्कार चैनल" पर प्रसारित है। 

ब्रह्म कुमारी शिवानी का जन्म 19 मार्च 1972 को पुणे शहर में हुआ। उनके माता पिता धार्मिक थे। इनको सिस्टर शिवानी के नाम से भी जानते है। सन 1994 में सिस्टर शिवानी ने पुणे यूनिवर्सिटी से इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग में स्नातक की पढ़ाई की। इसके  दो साल बाद वह भारती विद्यापीठ इंजीनियरिंग कॉलेज में  के पद पर रही।

जब  उसने अपने माता और पिता से ब्रह्म कुमारी में जाने की बात बोली तब उसकी शादी विशाल वर्मा से करा दी। तब उनकी उम्र 23 साल की थी तो वह स्वयं ब्रह्म कुमारी कार्यशालाओं में जाने के लिए तैयार हो गयी। 

आरम्भ में उसने सोनी टीवी के लिए दिल्ली में ब्रह्म कुमारी टेलीविजन प्रस्तुतियों के पीछे काम करने के बाद सन 2007 में शिक्षकों की अनुपलब्धा के कारण उसे दर्शाकों को स्वयं का प्रश्न पूछने को कहा गया था।  टीवी कर्यक्रम  " Awakening  With Brahm Kumari " नामक कार्यक्रम का नेतृत्व किया। वहां सिस्टर शिवानी का इंटरव्यू को - होस्ट 
कणप्रिया ने लिया था। इसे वीमेन ऑफ़ द डिकेड अचीवर अवार्ड से सम्मानित किया गया।  

ब्रह्म कुमारी शिवानी के कुछ विचार इस प्रकार है; - 

1 . जब मैं को हम में बदल दिया जाता है तो कमजोरी भी तंदुरस्ती में बदल जाती है। 

2 . किसी को दिया हुआ प्यार या ख़ुशी हमेशा लौट कर  वापस आती है संयोग से हम उस व्यक्ति से आशा भी करते है। 

 3 . आपकी मुस्कान आपके चेहरे पर भगवान् के हस्ताक्षर है , उसे अपने आँसुओं से धुलने या क्रोध से मिटने ना दे.  

4 .  खुश रहने का मतलब यह नहीं है की सब कुछ ठीक है। इसका मतलब यह है कि  आपने अपने दुखों से ऊपर   उठकर जीना सीख  लिया है।